जोधा बाई

जोधाबाई का इतिहास | truth of jodha akbar story

Spread the love

लगभग पचास के दशक में आई फिल्म मुगल-ऐ-आजम, आशुतोष गोविरकर की फिल्म जोधा अकबर और कई अन्य धारावाहिकों में जोधा बाई को अकबर महान की पत्नी के रूप में दिखाया गया है , कई सारे नाम ( हरका बाई ,हीर कँवर , मरियम जमानी ) भी दिए गये दरअसल फिल्म मुगले आजम इम्तियाज अली के एक नाटक अनारकली पर आधारित है इस से एक बात स्पष्ट है की ये एक एतिहासिक कल्पना है . दरअसल न ही किसी मुग़ल लेखक की किताब में इनका जिक्र है न ही हमारे पास इन सभी चित्रण को को सही गलत साबित करने के लिए कोई एतिहासिक संधर्भ है .

जोधाबाई जो अकबर की रानी नहीं थी

मुगल साम्रज्य उस समय का एक ताकतवर साम्रज्य था उनका एक ख़ास डिपार्टमेंट होता था ‘ हरम’ . जिसमे की गुलाम , अपहृत , राजनितिक चाल से दुसरे रियासतों से लाई गई राजकुमारियो और रानी पटरानियो को रखा जाता था . मुग़ल सम्राट अकबर ने उसके लिए एक नियम बनाया था ताकि असमंजस न हो , हरम में शामिल सभी औरतो को उनके पैदाइश वाले शहर से बुलाया जाएगा .

ऐसे में जोधा बाई को जोधपुर से होना चहिये था जबकि मुगल ऐ आजम और जोधा अकबर में जोधा बाई को आमेर से दिखाया गया था इसका मतलब जोधा बाई तो नहीं बुलाया जा सकता .

यंहा तक की अकबर और जोधा के पुत्र दिखाए गए सलीम उर्फ़ जहाँगीर ने उनके जीवन पर अद्धारित किताब जहाँगीरनामा में भी कभी अपनी माँ का जिक्र नहीं किया .

place where akbar meet jodha first time
आमेर के जनाना महल के पास बनी बरदारी जहाँ जोधा अकबर फिल्म में अकबर और जोधा को तलवार से लड़ते दिखाया गया है

अभी कुछ दिन पहले गोवा के एक लेखक लुईस दी ओसिस की एक किताब ‘ ‘पोर्तुगीस इंडिया एंड मुग़ल रिलेशन ‘ में ये दावा किया गया है की जोधा वास्तव में एक पुर्तगाली महिला थी जिन्हें की अरब सागर में यात्री जहाज से पकड़ कर सुलतान बहादुरशाह ने अकबर के सामने उपहार में पेश किया था . और 18 साल के अकबर को एक नजर में उस पुर्तगाली महिला डोना मरिया से इश्क हो गया और अपने लिए उसे हरम में रखवा दिया .

एक इसाई और फिरंग औरत होने के कारण मुगलो को शयद डोना पसंद नहीं आई हो सकता है इसी वजह से अंग्रेज और मुग़ल लेखको ने जोधाबाई का काल्पनिक किरदार बनाया हो

अकबरनामा , जहाँगीरनामा या मुगलों की कोई और किताब में जोधाबाई का कोई जिक्र नहीं है हा अकबर ने एक कछवाहा कूल की लड़की से शादी जरुर की थी परन्तु उसका नाम जोधा बाई नहीं था न ही किसी जोधपुर की लड़की या जोधा नाम की मारवाड़ की राजकुमारी का अकबर से निकाह हुआ था , हाँ अकबर के पुत्र जहाँगीर ने जरुर जोधपुर की मानमती नमक राजकुमारी से निकाह किया था ये बात विलियम कुक की आइन ऐ अकबरी के 1920 के संस्करण में स्पष्ट है .

तो अब बात आती है सच की जो की कई सदियों से हर नये हाथ से नयी शक्ल में उभरता आया है न ही कोई ठोस सबुत है जो जिक्र लेखक कई पुस्तको का हवाला देकर करते है उनको पढ़ के लगता है जोधा वाकई में कोई काल्पनिक किरदार है जो की अब हमेशा के लिए लोगो के दिमाग में सच्चा किरदार बना दिया गया है फिल्म और धारावाहिकों के जरिये मैंने भी अपने आमेर दौरे के समय गाइड से गहराई से इस बारे में पता किया उसने भी जवाब दिया हुकुम अकबर ने यंहा राज किया कई सालो तक पर ये सब बकवास है की अकबर ने तलवार बाजी में माहिर आमेर की राजकुमारी से निकाह किया था जोधा कोई राजकुमारी नहीं थी हमने तो इतिहास पढ़ते समय कही नाम नहीं सुना शयद जोधा को बनाने वालो ने निकाह पढ़ा होगा ( ठहाके के साथ ) न ही किसी फिल्म निर्माता ने ये कहानिया दिखाने से पहले कोई रिसर्च किया बस उन्ही पुराणी मनगढ़ंत कहानियो को बड़े परदे दिखाते गये .

आमेर महल के बारे यंहा पढ़े

राजस्थान के अन्य ब्लॉग यंहा पढ़े

Post Author: rao ankit

few months ago in 2017 I decided I'd rather make no money and do what I love rather than make alot of money and hate my job. now i think choosing traveling is Best decision of my life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.