amer fort hd, top 5 places to must visit in jaipur

AMER FORT JAIPUR : STUNNING PHOTO STORY IN HINDI

Spread the love

Amer fort jaipur सन 967 में जयपुर के मीणों द्वारा बनाया गया था और बाद में इस किले पर कच्छवाहा राजा मान सिंह ने सोहलवी सदी में राज किया और मौजूदा आमेर महल का निर्माण किया . चील टीले पर बना यह किला हिन्दू और मुग़ल शैली का जोरदार या यूँ कहे कन्टाप उदाहरण है लेकिन समय के साथ साथ इसका ढांचा कुछ फीका सा पड़ता जा रहा है .

AMER FORT JAIPUR

amer fort jaipur

Amer fort jaipur को आमेर महल भी कहते है क्युकी यहाँ पर आमेर के महाराजा और उनका परिवार रहता था , आमेर महल में दीवान ऐ आम , दीवान ऐ ख़ास , शीश महल और सुख मंदिर बने हुए जो की राजपूत और मुग़ल शैली का लाजवाब नमूना है . राजा मानसिंह अकबर के दरबार में विश्वस्त नवरत्नों में से एक थे . मान सिंह का जिक्र आपने अक्सर महाराणा प्रताप के हल्दीघाटी युद्ध की कहानी में सुना होगा मेवाड़ रियासत अकेली एसी रियासत थी जिसने अकबर के सामने घुटने नहीं टेके थे और समस्त राजपूताने को अकबर ने राजनितिक चाल और खौफ से मेवाड़ का दुश्मन बनवा दिया था खैर यंहा हम मेवाड़ नहीं Amer fort jaipur का जिक्र कर रहे है तो आगे बढ़ने से पहले आमेर के मुख्य द्वार की झलक आपको दिखा दू .

AMER FORT JAIPUR
Amer fort jaipur का मुख्य प्रवेश द्वार ( गणेश पोल )

Amer Fort Jaipur का नाम आमेर क्यों पड़ा

एसा इतिहास बताया जाता है की आमेर का नाम माता अम्बा के नाम से लिया गया है , अम्बा देवी को मीणाओ की देवी भी कहा जाता है . एक और तथ्य ये भी बताते है की आमेर का नाम अम्बिकेश्वर मंदिर से लिया गया है अम्बिकेश्वर जो की भगवन शिव का स्थानीय नाम है .

Amer fort jaipur की सैर

अगर आप तस्वीरों के शोकीन है तो किले में जल्दी सुबह 10 बजे प्रवेश कर ले उसके बाद भीड़ बढती जाती है क्युकी ये किला इतना मशहूर है की यंहा लघभग पांच- सात हजार सैलानी रोज आते है (Superintendent of the Department of Archaeology and Museums 2007 रिपोर्ट )

Amer fort jaipur तक आने के लिए आप पैदल भी आ सकते है या पहाड़ी के निचे मौजूद जीप या ऑटो भी ले सकते है किले में मौजूद शीश महल सबसे दिलचस्प ईमारत है किले के गाइड से आपको शीश महल के बारे में कई कहानिया सुनने को मिलेंगी . मेरी राय है की आप सुबह जल्दी पैदल किले तक आये और एक निजी गाइड जरुर ले . aamer fort jaipur गुप्त मार्ग से जयगढ़ किले से जुडा हुआ है

Amer fort jaipur, amer ka kila
दीवान – ऐ – ख़ास

गणेश पोल से प्रवेश करने के बाद मुग़ल बाग़ के सामने बना है दीवान ऐ ख़ास इसके बगल में है जय मंदिर और शीश महल ठीक इस ईमारत के सामने बना हुआ है सुख महल.

sukh mahal
सुख महल आमेर किला जयपुर

सुख महल गर्मियों के दिनों में राजाओ के आराम करने की पसंदीदा जगह थी यंहा पानी एक पाइप के जरिये खुले मार्ग से दीवार के साथ नीचे बहता और बहार से आने वाली हवा को ठंडा करता था जिस से महल में ठंडक बनी रहती है एक और दार्शनिक कलाक्रति जो की शीश महल के दीवार पर बनी है ‘ जादुई फूल ‘ . मार्बल के टुकड़े पर बने इस फूल में सात अनोखे नजारे जो की मछली की पूँछ हाथी का सूंड , शेर की पूँछ , कोबरा, सांप का मुख ,बिच्छू और मक्के का भुट्टा .

the place where jodha and akbar get married
मान सिंह महल में मौजूद बारादरी का दर्शय
AMBER FORT TEAL AND ORANGE
दीवान ऐ आम के ठीक सामने का नजारा

सुख महल के बाद मान सिंह पैलेस में प्रवेश करने पर बीच में नजर आती है बारादरी जो की एक मंडप है एसा गाइड ने बताया भी की यही पर जोधा और अकबर की मुलाकात हुई थी ( जोधा अकबर की सच्चाई के बारे में मुझे कुछ कहानी पता चली जो की मै अगले ब्लॉग में लिखुगा.)

बरदारी के आसपास जनाना महल बना हुआ है जहा Amer fort jaipur के राजा की रानिया रहती थी अब उस जमाने में राजनतिक और कई अन्य कारणों से राजा को कई रियासतों की राजकुमारियो से शादी करणी पड़ती थी तो उनके लिए अलग अलग कमरे बनाए जाते थे जिनकी संख्या बहुत अधिक होती है , इस जनाना महल में प्रवेश करने का हक़ सिर्फ आमेर के राजा को होता था . यंहा बने रानियों के कमरे एक आँगन से खुली छत्त से जुड़े हुए है .

इसके बाद में इस किले में त्रिपोलिया गेट , लायन गेट ,जलेब चौक जयगढ़ किले में जाने का गुप्त मार्ग आते है ..

इन सब के बारे में बताने से कही ज्यादा अच्छा रहेगा की आप स्वयं जयपुर भ्रमण करने जाए ( Amer fort jaipur के बारे में और अधिक यंहा पढ़े ) या अगर आप कभी वहां से गुजरे तो रुक कर कुछ पल जयपुर में भी बिताये वो राजस्थान टूरिज्म का कहना है ” जाने क्या दिख जाये ” , वो एक दम सही बात है वाकई में राजस्थान अपने किलो में अनगिनत राज छुपाए हुए है मैंने इस दुर्ग में पांच घन्टे बिताये और कई कहानिया कई राज सुने जिन्होंने वाकई में झकझोर दिया .

canon at amer fort

आमेर दुर्ग में राखी एक तोप

SECRET TUNNEL TO JAIGARH FORT

AMER FORT JAIPUR TICKETS

भारतीय पर्यटक – 100 रुपए

भारतीय विद्यार्थी – 10 रुपए

विदेशी पर्यटक – 500 रुपए

english में लाइट शो – 200 रुपए

हिंदी में लाइट शो – 100 रुपए

हाथी की सवारी – 1100 रुपए

कैसे पहुचे

AMER FORT JAIPUR से किलोमीटर की दूरी पर दिल्ली जयपुर हाईवे के नजदीक एक टीले पर बना हुआ है , यंहा आप ऑटो बस या कैब से आ सकते है निर्भर करता है आपके बजट पर यंहा आने के लिए किले के निचे से आप जीप भी ले सकते है और हाथी की सवारी भी कर सकते है .

THINGS TO DO IN AMER – आमेर किले के अन्य आकर्षण
  1. हाथी की सवारी
  2. रात्री में केसर क्यारी में होने वाला लाइट और साउंड शो
  3. सूर्यास्त के समय पहाड़ी की तलहटी से किले को देखना वाकई में एक नया अनुभव है
  4. किले के अंदर मौजूद सुरभि रेस्टोरेंट का खाना
  5. कठपुतली का नाच
  6. लोकल राजस्थानी संगीत
  7. इन सब के अलावा किले में कई हवेली और मंदिर भी है

तो इन सब के साथ Amer fort jaipur का ये सफ़र यही खत्म करते है लिखने में कुछ गलती हुई हो या तस्वीरे पसंद नि आई तो माफ़ कीजियेगा असल में क्या है नया नया लिखने लगा हु और ONEPLUS 5T के कन्टाप कैमरे से अच्छी तरह से वाकिफ नहीं हु .

राजस्थान से जुड़े अन्य ब्लॉग के लिंक निचे है –

रानी पदमिनी की कहानी – यंहा पढ़े

चित्तोड़ दुर्ग – यंहा पढ़े

जयपुर का सफ़र अभी अगले कुछ ब्लॉग में जारी रहेगा …

Post Author: rao ankit

few months ago in 2017 I decided I'd rather make no money and do what I love rather than make alot of money and hate my job. now i think choosing traveling is Best decision of my life

4 thoughts on “AMER FORT JAIPUR : STUNNING PHOTO STORY IN HINDI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.