tour of Umaid Bhawan Palace jodhpur in hindi

Spread the love

एक महल , होटल और एक म्यूजियम यानि umaid bhawan palace  में बहुत कुछ है अगर आप घूमने जाते है तो . मै मेरे जोधपुर भर्मण के दौरान रतानाडा में रुका था जहाँ से ये भवन सिर्फ 5 मिनट की दुरी पर है इस लिए मै मेहरानगढ़ से पहले इस म्यूजियम को देखने के लिए निकल गया सुबह जल्दी 10 बजे मै मुख्य दरवाजे पर पहुँच गया और एक 30 रुपए की एंट्री टिकेट लेकर अंदर प्रवेश कर लिया . इस टिकेट से केवल umaid bhawan palace के म्यूजियम का भर्मण कर सकते है किले का एक हिस्सा वर्तमान राजा का महल है और एक हिस्से में पांच सितारा होटल है . जोधपुर का शाही परिवार यंही इसी umaid bhawan में रहता है.

umaid bhawan palace jodhpur hindi
umaid bhawan palace की पहली झलक

अंदर घुसते ही म्यूजियम की पहली झलक कुछ यूँ पड़ी

इस तस्वीर में देखिये दाहिने तरफ है म्यूजियम , बीच में जंहा दो पिलर है बड़े वो होटल का प्रवेश द्वार है और सबसे अंत में है राजा का महल.

umaid bhawan palace का इतिहास

महल को बनवाने का मुख्य उद्देश्य था यंहा के अकाल पीड़ित नागरिको को रोजगार देना क्यूंकि 1929 में जोधपुर में अकाल से त्राहि त्राहि मची हुई थी .महाराजा उम्मेद सिंह ने तब इस umaid bhawan palace को बनवाने का काम शुरु करवाया और काम धीरे धीरे चला वो चाहते थे की लोगो को ज्यादा समय के लिए रोजगार मिले . ठीक 14 साल बाद बनकर तैयार हुआ भारत का आखरी महल और दुनिया दूसरा महल जहाँ राजा रहते है, वरना अधिकतर महल केवल शौख के लिए बनाये जाते थे .

umaid bhawan palace

अगर आप पुरानी कार , घडिया  देखने के शौक़ीन है तो ये एक आदर्श जगह  है

Umaid bhawan palace का भर्मण

umaid-bhawan-palace
ummaid bhawan palace म्यूजियम की दीवारों पर बनी चित्रकारी
ancient street lamps
पुराने जमाने का स्ट्रीट लैंप
umaid bhawan palace old watch
बेशकीमती पुराणी घडी

watch of gaj singh bapji

 

jodhpur
म्यूजियम का खुला प्रांगन
old watch with parameter
तापमान बताने वाली पुरानी घडी

 

umaid bhawan palace के म्यूजियम में देखने को राजा का निजी सामान ही है जो किसी जमाने में वो खुद इस्तेमाल करते  थे उनके कमरे , बैठक, पोलो रूम कुल मिलाकर 30 रुपए पुरे वसूल होने वाली जगह है या must visit कह लीजिये .  म्यूजियम के प्रवेश द्वार के पास विंटेज गाडिया है जो की मारवाड़ रियासत के राजा उन्नीसवी सदी में इस्तेमाल करते थे वो आज भी सम्पूर्ण व्यवस्थित है . मै ये गाडिया उदयपुर में देख चूका हु इसलिए मै देखने नहीं गया कुछ मुझे मेहरानगढ़ पहुँचने की भी जल्दी थी क्यूंकि दोपहर में इस मौसम में जाना बेवकूफी है .

umaid bhawan palace कैसे पहुंचे

निकटतम हवाई अड्डा जोधपुर (3 किमी) है। जोधपुर से दिल्ली, मुंबई और उदयपुर के लिए विमान सेवा निरंतर है .

निकटतम रेलवे स्टेशन जोधपुर (5 किमी) में है। जोधपुर शहर रेल मार्ग से देश के महानगरो से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है

और बस द्वारा आना बिलकुल सरल है यंहा के बस स्टैंड राय का बाग़ से सरकारी बस आसपास के बड़े शहरो के लिए निरंतर चलती है . बस स्टैंड से umaid bhawan  तक आने के लिए कैब और औटो का ही विकल्प है .

टिकट

30 रुपए भारतीय पर्यटक केवल म्यूजियम के लिए और 20 रुपए पार्किंग फीस अगर आप अपने वहां से यात्रा करते है तो .

umaid bhawan palace म्यूजियम के बारे में और ज्यादा जानने के लिए यंहा क्लिक करे 

 

 

Post Author: rao ankit

few months ago in 2017 I decided I'd rather make no money and do what I love rather than make alot of money and hate my job. now i think choosing traveling is Best decision of my life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.