things to do in udaipur, udaipur air ballons

एक दुर्लभ धरोहर Monsoon palace udaipur की यात्रा

Spread the love

Monsoon palace को आमतौर पर सज्जनगढ़ पैलेस के नाम से भी जाना जाता है. उदयपुर से 5 km दूर एक पहाड़ी की चोटी पर स्तिथ इस महल को बनवाने का काम महाराणा सज्जन सिंह ने शुरू करवाया था जिसे की उनके आकस्मिक निधन के बाद महाराणा फ़तेह सिंह ने पूरा किया . उदयपुर में सूर्यास्त देखने के लिए पिछोला झील के बाद इसी महल को सर्वोत्तम माना जाता है क्यूंकि यंहा से पूरा उदयपुर शहर , फतेहसागर झील और आसपास के गाँव और अरावली की पहाड़िया दिखती है .

महाराणा सज्जन सिंह और Monsoon palace Udaipur का इतिहास

Monsoon palace udaipur
Monsoon palace udaipur

Monsoon palace को बनवाने का काम महाराणा सज्जन सिंह ने अपने शाशन के दसवे साल सन 1884 में शुरू किया था. Monsoon palace udaipur को बनवाने के पीछे कई किस्से है कई कारण है जिनमे से एक है की महाराणा सज्जन सिंह एक एसा महल बनवाना चाहते थे जहाँ से उनका पैत्रक घर यानि चित्तौड़ का किला दिखाई दे दूसरा कारण ये है की महाराणा चाहते थे की महल शहर के बाहर ऊँची जगह पर बने जहाँ से बादल दिखे और उदयपुर के मौसम का अंदाजा लगया जा सके साथ में यंहा के स्थानीय लोगो को कुछ समय के लिए रोजगार भी मिल सके .

ये वो दौर था जब मेवाड़ राजघराना आपसी फूट और राजनितिक चाल से घिरा हुआ था . जब सज्जन सिंह जी को 15 साल की उम्र में राजगद्दी पर बैठाया जा रहा था तो उनके चाचा सोहन सिंह ने ज्योतिषयो के साथ मिलकर उनके राज्याभिषेक में बाधा डाल दी. लेकिन कुछ अंग्रेज अधिकारी चाहते थे की सज्जन सिंह गद्दी पर बैठे , उनकी मदद से सज्जन सिंह जी मेवाड़ के 72 वे महाराणा बने .

उन्होंने अपने शाशन काल में उदयपुर के विकास को लेकर कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए , पिछोला झील का विस्तार किया, शहर में सड़क और जल का प्रबंध सुचारू किया. उसी विकास में ये महल का निर्माण भी शामिल है . monsoon palace के निर्माण की शुरुवात को कुछ दिन बीते थे की सज्जन सिंह जी का निधन हो गया कुछ महीने महल को निर्माण रुक गया लेकिन महाराणा फ़तेह सिंह जी ने उनके इस सपने को पूरा किया . शुरू से ही ये महल मेवाड़ के राजघराने में शिकार खेलने के लिए सर्वोत्तम जगह के रूप में प्रचलित रहा है .

महल की सैर और Things To do near Monsoon palace

ROAD TO MONSOON PALACE UDAIPUR
जंगल के बीच से गुजरता महल जाने का रास्ता

मैंने होटल में पड़ी सिटी गाइड की एक पत्रिका में मानसून पैलेस के बारे में पढ़ा था हालाँकि समय कम था इस लिए केवल सूर्यास्त देखने के लिए मैंने यंहा जाने की योजना बनाई . Monsoon palace udaipur एक पहाड़ी पर है इस लिए यंहा टैक्सी या खुद के कार से जाना सबसे बेहतर है बजाय ऑटोरिक्शा के क्यूंकि चोटी तक जाने का रास्ता जंगली है और जिस पहाड़ी की चोटी पर महल बना है उसकी तलहटी में उदयपुर का बायोलोजिकल पार्क है जहाँ मौजूद जंगली जानवर कई बार इस रस्ते तक आ जाते है .

VIEW FROM MONSOON PALACE
महल के सामने से दिखता उदयपुर शहर

शुरुवात में मेरी योजना केवल कुछ देर सूर्यास्त देखने की थी लेकिन जब मानसून पैलेस में मुख्य प्रांगन से होते हुए पीछे की तरफ गया तो इस नजारे ने मुझे मजबूर कर दिया कुछ समय बीताने को . महल के सामने पूरा उदयपुर शहर और फतेहसागर झील दिखती है तो दूसरी तरफ आसपास के गाँव और महल के पीछे की तरफ अरावली की पहाड़िया .

SAJJAN GARH FORT VIEW
मेवाड़ी शैली से बना मुख्य द्वार ( अंदर की तरफ से )

palace at hill, udaipur, fort

अद्धभुत नजारे के अलावा Monsoon palace udaipur की निर्माण शैली भी देखने लायक है ये पूरी इमारत संगमरमर के पत्थर से बनी हुई है और इसके गुम्बद्धो पर मेवाड़ी चित्रशैलीया बनी हुई है . महल में उसी दौर का एक जल कुंड भी है जिसे की बरसात का पानी इकट्ठा करने के उद्द्शेय से बनाया गया था . एक बार मेवाड़ पर 1768 में सिंधिया रियासत ने आक्रमण किया था उनको बाहर से खदेड़ने के लिए तोप और गोलों को भण्डार इसी महल में बनाया था जिनके कुछ अवशेष आज भी देखने को मिलते है .

sunset pic,udaipur, sajjangarh
शायद इनको उदयपुर से मोहब्बत हो गई है ( सूर्यास्त का नजारा लेती पर्यटक )

Monsoon palace की सुन्दरता और सूर्यास्त के अलावा और भी कुछ जगह है जिन्हें आप यंहा घुमने से पहले की योजना में शामिल कर सकते है जैसे की

  1. पहाड़ी की तलहटी में मौजूद बायोलोजिकल पार्क
  2. आसपास के गाँव जहाँ राजस्थानी सभ्यता को करीब से देखा जा सकता है
  3. यंहा मौजूद शिल्पियों से हस्तशिल्प के सामान की खरीददारी

सज्जनगढ़ किले में वर्षा जल संग्रहण प्रणालि

समुन्द्र सतह से 932 मीटर ऊंचाई पर बने इस Monsoon palace udaipur पर गिरने वाली वर्ष की हर एक बूँद का संग्रहण करने हेतु तैयार की गई वर्षा जल संघ्रहण प्रणाली प्राचीन भवन शिल्पियों की शिल्पकला का अदिवित्य उदहारण है . किले के प्रत्येक खुले भाग पर गिरने वाला बारिश का पानी उसी छत्त पर बने कुंड में जाकर एक पाइप से भूतल में मौजूद कुंड में एकत्रित होता है जो की साल भर किले में प्रवासियों के लिए और अन्य निर्माण कार्यो में इस्तेमाल होता है .

टिकट व अन्य जानकारी
sunset from sajjangarh chunda restaurent
महल के पास केवल एक रेस्तरां है जहाँ से आप सूर्यास्त देख सकते है

Monsoon palace udaipur के लिए टिकेट पहाड़ी के निचे मौजूद मुख्य द्वार से ही लिया जा सकता है जिसकी कीमत है 10 रुपए भारतीय पर्यटक और अगर आप कार से ऊपर घुमने जाते है उसके लिए 250 रुपए प्रति कार.

उदयपुर घूमने का सबसे उत्तम समय अक्टूबर से मार्च तक है इसके अलावा अगर आप गर्मियों में जाते है तो यंहा का औसत तापमान 45 डिग्री से 47 डिग्री तक जा सकता है.

गाइड और टैक्सी के लिए निचे मुख्य द्वार से जानकारी ले सकते है .

मेरी राय है की अगर आप monsoon palace जाते है तो सूर्यास्त जरुर देखे और ऑटोरिक्शा से न जाये . तस्वीरे खींचने का शौख है तो ये जगह आपके लिए वरदान है यंहा ड्रोन उड़ने की भी इजाजत है .

महल का पता

कोडियात , उदयपुर

313011

समय – 09:30 – 7.30

Post Author: rao ankit

few months ago in 2017 I decided I'd rather make no money and do what I love rather than make alot of money and hate my job. now i think choosing traveling is Best decision of my life

1 thought on “एक दुर्लभ धरोहर Monsoon palace udaipur की यात्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.